Monday, September 8, 2008

हित या अहित

जिस कार्य के होने से किसी का अहित हो तो उस कार्य का न होना उसके हित में है। उसी प्रकार जिस कार्य के न होने से किसी का अहित हो तो उस कार्य के होने को उसके हित में कार्य का होना कहेंगे।

किसी भी कार्य के परिणाम में यह हो सकता है कि एक नजर से वहां लाभ हुआ हो व अन्य दृष्टि से हानि हुआ हो। पर स्थिति के अनुसार आवश्यकता तथा हुए लाभ व हानि के तुलनात्मक अध्ययन कर ही यह एक बात (निर्णय के रूप में) कहा जा सकता है कि वहां लाभ हुआ या हानि।

-------------------
LS-52 / 04101001

1 comment:

Shastri said...

सत्कर्म की प्रेरणा के लिये आभार !!



-- शास्त्री जे सी फिलिप

-- हिन्दी चिट्ठाकारी अपने शैशवावस्था में है. आईये इसे आगे बढाने के लिये कुछ करें. आज कम से कम दस चिट्ठों पर टिप्पणी देकर उनको प्रोत्साहित करें!!